Yaad Tohar Satai Ta Hum Ka Kari (Neelkamal Singh) Lyrics

Neelkamal Singh का यह दर्दभरा गाना Wave Music यूट्यूब चैनल से रिलीज़ किया गया है जिसका नाम है – याद तोहार सताई तs हम का करी (Yaad Tohar Satai Ta Hum Ka Kari) | इस गाना को लिखे है Rohit Pathak जी जबकि म्यूजिक दिए है Raj Gajipuri जी | निचे आप इस गाना का वीडियो देख सकते है –

Jani Roiha Ye Labhar Ji (Neelkamal Singh) Lyrics

दर्द दिलवा में उठेला सोरहो घरी – लिरिक्स

प्यार होला का उनका बुझातो ना बा
आ उनका बिना अब हमसे रहातो ना बा
की एने बेधता ओने अरे दुखातो ना बा
आ एने लहरता ओने अरे धुआतो ना बा
आ ….! आ …..!
दर्द दिलवा में हां आ आ आ …!
दर्द दिलवा में उठेला सोरहो घरी
दर्द दिलवा में उठेला सोरहो घरी
याद तोहार सतावे तs हम का करी
दर्द दिलवा में उठेला सोरहो घरी
दर्द दिलवा में उठेला सोरहो घरी
नैन लोरवा बहावे तs हम का करी
दर्द दिलवा में ..! दिलवा में ..!

[म्यूजिक..]

नीलकमल के गम में डूबा देले बा !
प्यार करे के पहिले बुझाईल नाही
समझावल दिमाग में तs आईल नाही
समझावल दिमाग में तs आईल नाही !
समझावल दिमाग में तs आईल नाही !
बड़ी अजीब सी मोहब्बत थी तुम्हारी
बड़ी अजीब सी मोहब्बत थी तुम्हारी
पहले पागल किया फिर पागल कहा
और अब पागल समझ के छोड़ दिया
आ आ आ …!
प्यार करे के पहिले बुझाईल नाही
समझावल दिमाग में तs आईल नाही
टिस उठे तs लागे की जाईब मरी
टिस उठे तs लागे की जाईब मरी
याद तोहार सतावे तs हम का करी
दर्द दिलवा में उठेला सोरहो घरी
दर्द दिलवा में उठेला सोरहो घरी
याद तोहार सतावे तs हम का करी
दर्द दिलवा में …! दिलवा में …!

[म्यूजिक..]

आ ….! आ …..!
प्यार भईल तs मिठाई हम बटले रही
तोहरा चक्कर में हाथ आपन कटले रही
तोहरा चक्कर में हाथ आपन कटले रही !
तोहरा चक्कर में हाथ आपन कटले रही !
काश तू मेरी मौत होती
काश तू मेरी मौत होती तो एक बात तो तय था
की एक न एक दिन मुझे जरूर मिलती
हां आ आ आ …!
प्यार भईल तs मिठाई हम बटले रही
तोहरा चक्कर में हाथ आपन कटले रही
इहे बात सोची सोची जाता जिउवा जरी
इहे बात सोची सोची जाता जिउवा जरी
याद तोहार सतावे तs हम का करी
दर्द दिलवा में उठेला सोरहो घरी
दर्द दिलवा में उठेला सोरहो घरी
याद तोहार सतावे तs हम का करी
दर्द दिलवा में …! दिलवा में …!

[म्यूजिक..]

दर्द दिलवा में !
दिलवा में !
जान से ज्यादा जेकरा के चहले रही
ऊ मोहब्बत के मतलब बता देले बा
ऊ मोहब्बत के मतलब बता देले बा !
ऊ मोहब्बत के मतलब बता देले बा !
हर रोज खा जाते थे वो कसम मेरे नाम की
हर रोज खा जाते थे वो कसम मेरे नाम की
साला कारण तो आज पता चला
की जिंदगी धीरे धीरे खत्म क्यों हो रही है
पाठक रोहित ई साच साच बतिया कही
नीलकमल के गम में डूबा देले बा
नीलकमला ऐ … नीलकमला …!
नीलकमला जे तड़पी तs फरबे करी
याद तोहार सतावे तs हम का करी
दर्द दिलवा में उठेला सोरहो घरी
दर्द दिलवा में उठेला सोरहो घरी
नैन लोरवा बहावे तs हम का करी
दर्द दिलवा में …! दिलवा में …!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *