Chhodi Ke Jani Jaihe Re

Chhodi Ke Jani Jaihe Re (Pawan Singh) Lyrics

Pawan Singh का यह नवरात्री विदाई गीत Wave Music यूट्यूब चैनल से रिलीज़ किया गया है जिसका नाम है – छोड़ी के जनि जईहे रे (Chhodi Ke Jani Jaihe Re) | इस गाना को लिखे है मनोज मतलबी जी जबकि म्यूजिक दिए है छोटे बाबा जी | निचे आप इस गाना का वीडियो देख सकते है –

Maiya Ki Aarti – मईया के आरती (Pawan Singh) Lyrics

छोड़ी के जनि जईहे रे – लिरिक्स

रुक जा तू रुक जा ऐ माई
रुक जा तू रुक जा ऐ माई छोड़ी के जनि जईहे रे
रुक जा तू रुक जा ऐ माई छोड़ी के जनि जईहे रे
नव दिन रहनी हs ओढ़ी के अँचरवा
कबो ना हटईहे रे
रुक जा तू रुक जा ऐ माई छोड़ी के जनि जईहे रे

[म्यूजिक..]

हम रात दिन हो रही लवलीन हो
हम रात दिन हो रही लवलीन हो
कईसे जियब अपना माई के बिन हो
घूमी फिर मुहवा हम केकर निरेखब
जनि छछनईहे रे
रुक जा तू रुक जा ऐ माई छोड़ी के जनि जईहे रे

[म्यूजिक..]

जदि फुसीलाई चली जईबू माई
जदि फुसीलाई चली जईबू माई
कतनो रोवब केहू चुप ना कराई
गोड़वा के धई कहे पवन मतलबी
ढेर ना रोवईहे रे
रुक जा तू रुक जा ऐ माई छोड़ी के जनि जईहे रे
रुक जा तू रुक जा

Sun Re Suganiya

Sun Re Suganiya (Pawan Singh) Lyrics

Pawan Singh और Akshara Singh का यह सुपरहिट नवरात्री भक्ति गाना Wave Music यूट्यूब चैनल से रिलीज़ किया गया है जिसका नाम है – सुन रे सुगनिया (Sun Re Suganiya) | इस गाना को लिखे है Manoj Matalbi जी जबकि म्यूजिक दिए है Chhote Baba जी | निचे आप इस गाना का वीडियो देख सकते है –

Ja Tara Ara Ke Bazar (Khesari Lal Yadav) Lyrics

सुन रे सुगनिया बंद बा दोकनिया – लिरिक्स

भूल गईलs छाक ना ले अईलs तू पान ना लवँगिया
ऐ हो ! भूल गईलs छाक ना ले अईलs तू पान ना लवँगिया
साचो कहतानी
कहतानी ! कहतानी !
तs साचो कहतानी सुन रे सुगनिया बंद बा दोकनिया
साचो कहतानी सुन रे सुगनिया बंद बा दोकनिया !

[म्यूजिक..]

पॉकेट में धईले रहनी गईल कहाँ परचा
लागता की पईसा सब कई देहलs खर्चा
खर्चा ! खर्चा !
आवs लेई लs हिसाब तुहु पाई पाई के
कईनी गलती ना काम बात दुर्गा माई के
छोड़लs कपूर नाही लईलs तू घीव ना दवनिया
हs नु …!
हां ! छोड़लs कपूर नाही लईलs तू घीव ना दवनिया
तs साचो कहतानी
कहतानी ! कहतानी !
साचो कहतानी सुन रे सुगनिया बंद बा दोकनिया
साचो कहतानी सुन रे सुगनिया बंद बा दोकनिया !

[म्यूजिक..]

चढ़ी नवरात्र कल भोर के पहर हो
कईसे जोगाड़ जुटी दूर बा शहर हो
शहर हो ! शहर हो !
हम ले आईब सामान फटफटिया से जाके
जे भी लागी अभरन देब जल्दी से लाके
पहिला पहर अईहे सेवका के घर महारनियां
जय हो ! जय हो !
पहिला पहर अईहे सेवका के घर महारनियां
साचो कहतानी
तानी ! तानी !
साचो कहतानी सुन रे सुगनिया बंद बा दोकनिया
साचो कहतानी सुन रे सुगनिया बंद बा दोकनिया !