Dihi Darshan Suruj Gosaiya

Dihi Darshan Suruj Gosaiya (Pawan Singh) Lyrics

Pawan Singh का यह छठ गीत उनके सुपरहिट एल्बम Chhathi Maai Ke Mahima Apar का है जिसका नाम है – दिही दर्शन सुरुज गोसईया (Dihi Darshan Suruj Gosaiya) | इस गाना को लिखे है Govind Vidyarthi जी जबकि म्यूजिक दिए है Shankar Singh जी | इस गाना को Wave Music यूट्यूब चैनल से रिलीज़ किया गया है | निचे आप इस गाना को सुन सकते है –

Godiya Me Hoihe Balakawa (Pawan Singh) Lyrics

दिही दर्शन सुरुज गोसईया – लिरिक्स

दिही दर्शन सुरुज गोसईया
आजु पटना के घाट
बरती पs होखी ना सहईया
निहारे नैना राउर बाट
निहारे नैना राउर बाट !
दिही दर्शन सुरुज गोसईया
आजु आरा के घाट
आजु आरा के घाट !

[म्यूजिक..]

जय छठी माँ !
तिवई अरघ देबे अईली गंगा घटिया
रउए दरश के बेकल बाटे अंखिया
जय छठी मईया !
तिवई अरघ देबे अईली गंगा घटिया
रउए दरश के बेकल बाटे अंखिया
हरी देव दुखवा बलईया
उगी पुरुब से मुस्कात
उगी पुरुब से मुस्कात !
दिही दर्शन सुरुज गोसईया
आजु देवमूंगा के घाट
आजु देवमूंगा के घाट !

[म्यूजिक..]

जय छठी माँ !
लिहि ना अरघ आदित दिहि आशीर्वाद जी
बरतीन के पूरा करी मन के मुराद जी
जय छठी मईया !
लिहि ना अरघ आदित दिहि आशीर्वाद जी
बरतीन के पूरा करी मन के मुराद जी
पवन गोविन्द परेले पईया
दर्शन दिहि साकछात
दर्शन दिहि साकछात !
दिही दर्शन सुरुज गोसईया
आजु बक्सर के घाट
आजु पटना के घाट !
आजु आरा के घाट !
उगी पुरुब से मुस्कात !

Godiya Me Hoihe Balakawa

Godiya Me Hoihe Balakawa (Pawan Singh) Lyrics

Pawan Singh का यह छठ गीत उनके सुपरहिट एल्बम Chhathi Maai Ke Mahima Apar का है जिसका नाम है – गोदिया में होईहे बलकवा (Godiya Me Hoihe Balakawa) | इस गाना को लिखे है Arun Bihari जी जबकि म्यूजिक दिए है Shankar Singh जी | इस गाना को Wave Music यूट्यूब चैनल से रिलीज़ किया गया है | निचे आप इस गाना को सुन सकते है –

Ugi He Suruj Mal Naiyo Na Dole (Pawan Singh) Lyrics

छठी माई के घाटवा पे आजन बाजन – लिरिक्स

जय छठी मईया ! जय छठी मईया !
जय छठी मईया ! जय छठी मईया !
छठी माई के घटवा पs आजन बाजन बाजा बजवाईब हो
छठी माई के घटवा पs आजन बाजन बाजा बजवाईब हो
गोदिया में होईहे बलकवा तs अरघ देवे आईब हो
गोदिया में होईहे बलकवा तs अरघ देवे आईब हो !

[म्यूजिक..]

एक ही ललन बिना छछनेला मनवा
सुनसान लागे हमरो घरवा अँगनवा
पूरी जहिया दिलवा के लालसा तs जलसा कराईब हो
पूरी जहिया दिलवा के लालसा तs जलसा कराईब हो
गोदिया में होईहे बलकवा तs कोशी भरवाईब हो
गोदिया में होईहे बलकवा तs अरघ देवे आईब हो !

[म्यूजिक..]

जय छठी मईया !
जय छठी मईया !
मनवा में आस लेके रोवेले बँझिनिया
कहिया बसईबू छठी माई हमरो दुनिया
अईसन सुनर फल पाईब तs सुरुज गोहराईब हो
अईसन सुनर फल पाईब तs सुरुज गोहराईब हो
अरुण पवन के बोलाईब गीतिया गवाईब हो
गोदिया में होईहे बलकवा तs अरघ देवे आईब हो !

फाइनल :-

छठी माई के घटवा पs आजन बाजन बाजा बजवाईब हो
छठी माई के घटवा पs आजन बाजन बाजा बजवाईब हो
गोदिया में होईहे बलकवा तs अरघ देवे आईब हो
गोदिया में होईहे बलकवा तs अरघ देवे आईब हो !

Ugi He Suruj Mal Naiyo Na Dole

Ugi He Suruj Mal Naiyo Na Dole (Pawan Singh) Lyrics

Pawan Singh का यह छठ गीत उनके सुपरहिट एल्बम Chhathi Maai Ke Mahima Apar का है जिसका नाम है – उगी हे सुरुज मल नईयो ना डोले (Ugi He Suruj Mal Naiyo Na Dole) | इस गाना को लिखे है R.R Pankaj जी जबकि म्यूजिक दिए है Shankar Singh जी | इस गाना को Wave Music यूट्यूब चैनल से रिलीज़ किया गया है | निचे आप इस गाना को सुन सकते है –

Kerwa Ke Patwa Pe (Pawan Singh) Lyrics

उगी हे सूर्यमल नईयो ना डोले – लिरिक्स

जय छठी माँ !
जय छठी मईया !
उगी हे सुरुजमल नईयो ना डोले
उगी हे सुरुजमल नईयो ना डोले
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
उगी हे सुरुजमल नईयो ना डोले
उगी हे सुरुजमल नईयो ना डोले
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार !

[म्यूजिक..]

जय छठी माँ !
जय छठी माँ !
हां आ आ ..!
दुई दिन के भूखल तिवई जल बीचे बाड़ी खाड़ जी
हां ..! दुई दिन के भूखल तिवई जल बीचे बाड़ी खाड़ जी
हाथ में कलसूप लेके कल पेs करे ली इंतजार जी
ओठवा झुराई गईले मुँहवो ना खुले
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार !

[म्यूजिक..]

जय छठी माँ !
जय छठी मईया !
हां आ आ ..!
रोज तs रउवा जल्दी जागी दुनिया के जगाईला
हां हां हां !
रोज तs रउवा जल्दी जागी दुनिया के जगाईला
आज तs बदरी हटत नईखे काहे देर लगाईला
ललकी किरिनिया देखाई गोले गोल
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार !

[म्यूजिक..]

जय छठी माँ !
जय छठी माँ !
हां आ आ ..!
दर्शन दिहि देव दिवाकर रथवा चढ़ के आई जी
हां आ आ ..!
दर्शन दिहि देव दिवाकर रथवा चढ़ के आई जी
लिहि अरघिया कठिन परबिया सुफल मोर बनाई जी
पंकज दीपक पवन भक्ति रस घोले
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार !

फाइनल :-

उगी हे सुरुजमल नईयो ना डोले
उगी हे सुरुजमल नईयो ना डोले
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार !
रे कोयलिया बोले हो गईले भोर भिनुसार !

Kerawa Ke Patwa Pe

Kerwa Ke Patwa Pe (Pawan Singh) Lyrics

Pawan Singh का यह छठ गीत उनके सुपरहिट एल्बम Chhathi Maai Ke Mahima Apar का है जिसका नाम है – केरवा के पातवा पे नेवता (Kerwa Ke Patwa Pe Nevta) | इस गाना को लिखे है Arun Bihari जी जबकि म्यूजिक दिए है Shankar Singh जी | इस गाना को Wave Music यूट्यूब चैनल से रिलीज़ किया गया है | निचे आप इस गाना को सुन सकते है –

Maai Ghare Rowat Hoihe (Pawan Singh) Lyrics

केरवा के पतवा पे नेवता पेठवनी – लिरिक्स

जय जय छठी मईया !
जय जय छठी मईया !
केरवा के पतवा पे नेवता पेठवनी
नेवता करी ना स्वीकार जी
हां लिही ना अरघ मोर आदित गोसईया
बरतीं के सुन ली पुकार जी
हां केरवा के पातवा पे नेवता पेठवनी !
नेवता करी ना स्वीकार जी !!

[म्यूजिक..]

हो ओ ओ ओ ओ..!
हो ओ ओ ओ ओ..!
जय छठी मईया !
देहब अरघ दुनो बेरा आदित तोहे सझिया फजीरे
हो ओ ओ ओ ओ..!
दूसरा अरघ देके मांगब आशीष आके गंगा के तीरे
दीन के सहईया रउवे रोग हरईया जी
रउवे से जग में अजोर जी
हां केरवा के पतवा पे नेवता पेठवनी
नेवता करी ना स्वीकार जी
हां केरवा के पतवा पे नेवता पेठवनी !
नेवता करी ना स्वीकार जी !!

[म्यूजिक..]

जय छठी मईया !
नजरी के कोर से करिले अजोर जग रउवे से जागेला
हो ओ ओ ओ ओ..!
रउवे से रात होला रउवे से दिन काल चक्र चलेला
हर साल करब बरत आई छठी घटिया हो
हमनी पs करब उपकार जी
हां लिही ना अरघ मोर आदित गोसईया
बरतीं के सुन ली पुकार जी
हां केरवा के पातवा पे नेवता पेठवनी !
नेवता करी ना स्वीकार जी !!

फाइनल :-

केरवा के पतवा पे नेवता पेठवनी
नेवता करी ना स्वीकार जी
हां लिही ना अरघ मोर आदित गोसईया
बरतीं के सुन ली पुकार जी
हां केरवा के पातवा पे नेवता पेठवनी !
नेवता करी ना स्वीकार जी !!
हां केरवा के पातवा पे नेवता पेठवनी !
नेवता करी ना स्वीकार जी !!